Songs

User Rating: 5 / 5

Star ActiveStar ActiveStar ActiveStar ActiveStar Active
 



Title: Raat Khamosh Hai
Singer : Jagjit Singh
Album: Muntzir
Lyrics : Hari Ram Acharya

रात खामोश है चाँद मदहोश है,
थाम लेना मुझे जा रहा होश है,

मिलन की दास्ताँ धडकनों की जुबान,
गा रही है ज़मीन सुन रहा आसमान,

गुनगुनाती हवा दे रही है सदा,
सर्द इस रात की गर्म आगोश है,

महकती यह फिजा जैसे तेरी अदा,
छा रहा रूह पर जाने कैसा नशा,

झूमता है जहाँ अजब है यह समां,
दिल के गुलज़ार मे इश्क पुरजोश है,